बंद करे

जिला पंचायत

विभाग में संचालित कार्यक्रम एवं योजनायें

पंचायत एंटरप्राइज़ सूट

पंचायती राज मंत्रालय (एमओपीआर) ने पूरे देश में पंचायती राज संस्थानों (पीआरआई) में ई-गवर्नेंस को पेश करने और मजबूत करने के लिए ई-पंचायत मिशन मोड प्रोजेक्ट (ई-पंचायत एमएमपी) शुरू किया है और पीआरआई की संबंधित क्षमताओं का निर्माण किया है। ई-गवर्नेंस पहल का प्रभावी गोद लेने। इस परियोजना के तहत, पंचायत एंटरप्राइज़ सूट (पीईएस) को अवधारणाबद्ध किया गया है जिसमें 11 कोर आम अनुप्रयोग शामिल हैं। वर्तमान में, पंचायत एंटरप्राइज़ सूट को 10 कोर आम अनुप्रयोगों के साथ तैनात / परिचालित किया गया है और जीआईएस परत मॉड्यूल अवधारणा के तहत है। परिचालन मॉड्यूल में एलजीडी (स्थानीय सरकारी निर्देशिका), क्षेत्र प्रोफाइलर (सामाजिक-आर्थिक और सामान्य विवरण), प्लानप्लस (विकेंद्रीकृत और सहभागिता योजना को मजबूत करने के लिए), प्रियासोफ्ट (पंचायत लेखा), एक्शनसोफ्ट (वर्क्स / सिशेम कार्यान्वयन निगरानी प्रणाली), एनएडी ( राष्ट्रीय संपत्ति निर्देशिका), सेवा प्लस (सेवा वितरण की सुविधा के लिए), सामाजिक लेखा परीक्षा, प्रशिक्षण और राष्ट्रीय पंचायत पोर्टल (पंचायतों की गतिशील वेबसाइट)

अधिक जानकारी के लिए लिंक पर जाएँ :http://panchayatonline.gov.in

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005

मनरेगा से कूप निर्माण से उर्मिला की खुशहाल हुयी जिंदगी

लोक सुराज अभियान

मनरेगा से कूप निर्माण से उर्मिला की खुशहाल हुयी जिंदगी

वर्ष 2017-18 में लोक सुराज अभियान के तहत् प्रदेश के मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह का दिनांक 06.04.2017 को आकस्मिक दौरे कार्यक्रम के तहत् बिलासपुर जिले के गौरेला विकासखण्ड के ग्राम गौरखेड़ा ग्राम पंचायत ठेंगाडांड़ में आगमन हुआ जहां उन्होंने ग्रामीण जनों से बात-चीत कर गांव के विकास के बारे में जानना चाहा। ग्रामीणजनों से बात-चीत के दौरान गांव के ही निवासी श्रीमती उर्मिला पति श्री सुकलाल ग्राम पंचायत ठेंगाडांड़ ने मान.मुख्यमंत्री को भेंट स्वरूप तेंदू फल खाने हेतु दिया जिसे मान. मुख्यमंत्री जी ने बड़ी ही सरलता से स्वीकार करते हुए ग्रहण किया और खुश होकर श्रीमती उर्मिला सहित 12 हितग्राहियों को मनरेगा से कूप स्वीकृत कराया |
वर्तमान में श्रीमती उर्मिला मनरेगा के तहत् स्वीकृत कूप निर्माण से अपने खेतों में सिंचाई कर फसल की अच्छी पैदावार प्राप्त कर रही हैं साथ ही कूप के पास लगभग 30 डिसमिल भूमि पर टमाटर, फूलगोभी, पत्तागोभी, बैंगन एवं सेम इत्यादि सब्जियों की पैदावार कर विक्रय करने से आर्थिक सहायता भी प्राप्त हो रही है जिससे श्रीमति उर्मिला काफी उत्साहित है। वर्तमान में श्रीमती उर्मिला के खेत में कूप निर्माण हो जाने के कारण पर्याप्त सिंचाई सुविधा उपलब्ध हुआ है, जिससे उनका फसल का उत्पादन अच्छा हो रहा है। भूजल स्तर में भी वृद्धि हो रही है।

अधिक जानकारी के लिए लिंक पर जाएँ : http://www.mgnrega.nic.in

प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण)

पीएमए-जी का उद्देश्य 2022 तक सभी घरों के घरों और कच्चा और जीर्ण घर में रहने वाले उन घरों के लिए बुनियादी सुविधाओं के साथ एक पक्का घर प्रदान करना है। तत्काल उद्देश्य कच्चा घर / जीर्ण घर में 1.00 करोड़ परिवारों को रहने के लिए है। 2016-17 से 2018-19 तक के वर्षों। घर के न्यूनतम आकार को 25 वर्ग मीटर (20 वर्ग मीटर से) तक एक स्वच्छ खाना पकाने की जगह के साथ बढ़ा दिया गया है। इकाई सहायता रुपये से बढ़ा दी गई है। 70,000 से रु। पहाड़ी राज्यों, कठिन क्षेत्रों और आईएपी जिले में 1.20 लाख सादे और 75,000 रुपये से 1.30 लाख रुपये तक। लाभार्थी एमजीएनआरईजीएस से अकुशल श्रम के 90.9 5 व्यक्ति दिवस का हकदार है। शौचालय के निर्माण के लिए सहायता लीवरेज की जाएगी हालांकि एसबीएम-जी, एमजीएनआरईजीएस या किसी अन्य को वित्त पोषण के स्रोत के साथ अभिसरण। पाइप पीने के पानी, बिजली कनेक्शन, एलपीजी गैस कनेक्शन इत्यादि के लिए अभिसरण विभिन्न सरकारी प्रोग्रामर भी प्रयास किए जा रहे हैं।

अधिक जानकारी के लिए लिंक पर जाएँ :http://pmayg.nic.in