कृषि

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन

पात्रता – लघु, सीमांत एवं दीर्घ कृषक हेतु

  • फसल प्रदर्शन –
    सीधी बुवाई, राशि रु. 7500/- प्रति हेक्टेयर।
    लाइन में रोपा राशि रु 7500/- प्रति हेक्टेयर।
    श्रीविधि राशि रु 7500/- प्रति हेक्टेयर।
    हाइब्रिड धान प्रदर्शन राशि रु 7500/- प्रति हेक्टेयर
  • द्विफसली पद्धति आधारित प्रदर्शन –
    धान-मटर राशि रु 12500/- प्रति हेक्टेयर
    धान-रबी अरहर,मूंगफली एवं तिवरा राशि रु 12500/- प्रति हेक्टेयर
    धान-चना राशि रु 12500/- प्रति हेक्टेयर
    धान-मक्का राशि रु 12500/- प्रति हेक्टेयर
  • बीज वितरण कार्यक्रम –
    हायब्रिड बीज वितरण राशि रु 5000/- प्रति क्विंटल.
    अधिक उपज वाले बीज वितरण धान राशि रु 1000/- प्रति क्विंटल.
    अधिक उपज वाले बीज वितरण दलहन राशि रु 2000/- प्रति क्विंटल.
  • पौध और मृदा संरक्षण प्रबंधन-
    सूक्ष्म पोषक तत्व राशि रु 500/- प्रति हे.
    चुना एवं क्षारीय मृदा हेतुचुना वितरण राशि रु 1000/- / हे.
    पौध सरंछण औषधि और बायो केमिकल्स राशि रु 500/- प्रति हे.
    नींदानाशक औषधि वितरण राशि रु 500/- प्रति हे.
  • संसाधन संरक्षण तकनीकों / उपकरण –
    कोनोवीडर राशि रु 600/- प्रति नग.
    हस्तचालित स्प्रेयर राशि रु 600/- प्रति नग.
    शक्ति चालित स्प्रेयर राशि रु 3000/- प्रति नग.
    मल्टीक्राफ प्लांटर राशि रु 15000/- प्रति नग.
    सीडड्रिल राशि रु 15000/- प्रति नग.
    शक्तिचलित वीडर राशि रु 15000/- प्रति नग.
    ज़ीरो ड्रिल मल्टीक्रॉप प्लांटर राशि रु 15000/- प्रति नग.
    ड्रम सीडर राशि रु 1500/- प्रति नग.
    रोटावेटर राशि रु 35000/- प्रति नग.
    लेजरलैंड लेबलर राशि रु 150000/- प्रति नग.
    धान थ्रेशर / बहु-फसल थ्रेशर 40000 /- संख्या
    स्व-प्रेरित धान ट्रांसप्लानेटर 75,000 /-संख्या
    पावर टिलर का वितरण रु 60000 /- यूनिट या लागत का 50% जो भी कम हो
    पंप के लिए प्रोत्साहन 10000/- रुपये / संख्या
    जल से स्रोत तक पानी ले जाने के लिए पाइप 15000 रुपये प्रति किसान
    फसल सिस्टम आधारित प्रशिक्षण (चार सत्र यानी खरीफ और रबी सीजन से पहले, खरीफ और रबी फसलों के दौरान प्रत्येक) 14000 /- नंबर.
  • स्थानीय पहल –
    गोदामों का निर्माण 6000 / लाख रुपये (50 मीटर तक) 150000 रुपये / नं.
    रीपर वितरण राशि रु 50000/- प्रति नग.

सतत कृषि के लिए राष्ट्रीय मिशन (एनएमएसए) आरएडी

पात्रता – लघु, सीमांत एवं दीर्घ कृषक हेतु

  • I. एकीकृत खेती प्रणाली
    बागवानी आधारित खेती प्रणाली राशि रु 25000 /हे सब्सिडी
    पशुधन आधारित खेती प्रणाली राशि रु 25000 / हे सब्सिडी
    डेयरी आधारित फार्मिंग सिस्टम राशि रु 40000 / हे सब्सिडी
    मत्स्य पालन आधारित खेती प्रणाली राशि रु. 25000 / हे सब्सिडी
    सिल्वि-पेस्टोरल सिस्टम / एनटीएफपी
    वृक्ष आधारित खेती प्रणाली (वाडी) परिधीय वृक्षारोपण के साथ फसल सिस्टम 10000 / हे सब्सिडी
  • II. मूल्य में वृद्धि और संसाधन संरक्षण
    ग्रीन हाउस
    स्वाभाविक रूप से हवादार ट्यूबलर संरचना
    स्वाभाविक रूप से वेंटिलेटेड लकड़ी संरचना
    फसल और भंडारण के बाद 150000 / इकाई अनुदान
    जल संचयन टैंक / तालाब / अच्छी तरह से खोदा (व्यक्तिगत)
    सामुदायिक टैंक (समुदाय / सरकारी भूमि)
    चेक बांध रुपये 15.00 लाख / यूनिट सब्सिडी (सरकारी भूमि)
    जल उठाने वाले उपकरण
    वर्मी कंपोस्ट (व्यक्तिगत) 12500 / इकाई
    आईएफएस / संसाधन संरक्षण पर प्रशिक्षण Rs.10000 / प्रशिक्षण (30 किसान)

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना

पात्रता – लघु, सीमांत एवं दीर्घ कृषक हेतु

  • बीज मिनिकिट का वितरण (दाल 4 किलोग्राम, तेल बीज 1 किलोग्राम, छोटे बाजरा 4 किलोग्राम।)
    हाइब्रिड मक्का बीज मिनिकिट का वितरण (4 किलोग्राम / 0.2 हेक्टेयर) खरीफ.
    उथला नलकुप के लिए किसानों को अनुदान अधिकतम खुदाई के लिए 5000/- एवं पंप के लिए 15000/-
    कीटनाशक परीक्षण प्रयोगशाला.
    चेक बांध का निर्माण सरकारी भूमि पर अधिकतम 15 लाख प्रत्येक.

कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी (एटीएमए)

पात्रता – लघु, सीमांत एवं दीर्घ कृषक हेतु

  • एसआरईपी का विकास / पुनरीक्षा 1.50 लाख (एक समय)
  • किसानों का प्रशिक्षण –
    (ए) अंतर्राज्यीय- प्रति किसान प्रति दिन रुपये 1250/-
    (बी) राज्य के भीतर रु.1000 प्रति किसान प्रति दिन
    (सी) जिले के अन्दर- रु. 250 प्रति किसान प्रति दिन
  • प्रदर्शन आयोजन –
    कृषि- रु 3000 / प्रदर्शन (0.4 हेक्टेयर)
    उद्यानिकी- रु 4000 / प्रदर्शन (0.4 हेक्टेयर)
    पशुपालन- रु 4000 / प्रदर्शन
    मछलीपालन- रु 4000 / प्रदर्शन
    रेशमपालन- रु 4000 / प्रदर्शन
  • किसानों का शैक्षिणिक भ्रमण विज़िट –
    अंतर्राज्यीय- Rs. 800/- प्रति दिन / प्रति प्रतिभागियों.
    राज्य के भीतर 400/- प्रति दिन / प्रति प्रतिभागी.
    जिले के भीतर रु 300/- प्रति दिन / प्रति प्रतिभागियों.
  • (I) किसान समूहों के संचलन – एफआईजी / वाईफ / एफओएस / सीओएस / एफसी –
    (ए) क्षमता निर्माण कौशल विकास और सहायता सेवाएं रु. 5000 प्रति समूह प्रति वर्ष कौशल विकास हेतु.
    (बी) सीड मनी /रिवाल्विंग (घूमने वाले) धनराशि रुपये 10000 प्रति व्यवहार्य समूह.
    (सी) खाद्य सुरक्षा समूह (महिला) रु.10000 प्रति व्यवहार्य समूह.
    सर्वोत्तम संगठित समूहों के लिए पुरस्कार / प्रोत्साहन – विभिन्न उद्यमों का प्रतिनिधित्व 20000 प्रति समूह प्रति वर्ष.
    किसान पुरस्कार – सर्वोत्तम किसान विभिन्न उद्यमों का प्रतिनिधित्व करते हैं प्रति किसान प्रति वर्ष 10000 रुपये.
  • (II) कृषि सूचना प्रसार –
    जिला स्तरीय प्रदर्शनी / किसान मेला / फल / सब्जी राशि रु. 4 लाख रूपये प्रति जिला.
    (ए) मुद्रित पत्रक, आदि के माध्यम से सूचना प्रसार और विज्ञापन रु. 4 लाख रुपये प्रति जिला.
    (बी) कम लागत प्रकाशन 72000 प्रति प्रति प्रकाशन प्रति ब्लॉक.
    आईटी नेटवर्क के माध्यम से डिजिटल फॉर्म के लिए प्रौद्योगिकी पैकेज का विकास 20000 रुपये प्रति पैकेज.
  • (III) कृषि प्रौद्योगिकी परिशोधन, मान्यकरण और दत्तक ग्रहण:
    (ए) जिला स्तर पर किसान-वैज्ञानिक परिसंवाद (दो दिवसीय के लिए 25 किसान) 20000 रुपये प्रति इंटरेक्शन
    (बी) जिला स्तर पर केवीके / एसएयू से निर्दिष्ट विशेषज्ञ सहायता 2000 प्रति माह प्रति जिला
    (सी) वैज्ञानिक एवं विस्तार श्रमिकों द्वारा संयुक्त दौरा 1400 रुपये प्रति विज़िट
    संगठन फील्ड दिवस और किसान गोशाइट्स आर-ई-एफ लिंकजेस को मजबूत करने के लिए 15000 रुपये प्रति कार्यक्रम (दो कार्यक्रम प्रति ब्लॉक)
    केवीके और अन्य स्थानीय शोध केंद्रों के माध्यम से फ्रन्टलाइन टेक्नोलॉजीज और अन्य अल्पावधि शोध योग्य मुद्दों का आकलन, परिशोधन, मान्यता और दत्तक, 5 लाख रुपये प्रति जिला
    (डी) फार्म स्कूल
    कृषि विभाग – 29414 रुपये प्रति कार्यक्रम
    उध्यानिकी विभाग 29414 रुपये प्रति कार्यक्रम
    पशु पालन विभाग 29414 रुपये प्रति कार्यक्रम
    मत्स्य पालन 29414 रुपये प्रति कार्यक्रम
    रेशम विभाग 29414 प्रति कार्यक्रम
    किसान मित्र प्रति वर्ष 6000/- प्रति एफएफ प्रति वर्ष (एक एफएफ / दो विलेज)
    (ई) अन्य अभिनव गतिविधियां
    नवीन गतिविधियां घटक – जिला स्तर 50000 प्रति ब्लॉक
    आईटीडी घटक
    बोर्ड के लिए डिस्प्ले बोर्ड को 2000 रुपये
    पिको प्रोजेक्टर रु 30000 प्रति ब्लॉक
    कम लागत वाली फिल्म का उत्पादन 50000 रुपये प्रति फिल्म
    ए) हाथ में डिवाइसेज प्रति उपकरण 20000 रुपये
    बी) जीपीआरएस प्रभार 5000 रुपये डिवाइस
    कला जथा और अन्य अभिनव प्रथाएं 10000 रूपए प्रति कला जत्था.

तिलहन और तेल पाम पर राष्ट्रीय मिशन (एनएमओओपी)

  • बीज घटक
    ब्रीडर बीज की खरीद / प्रतिशत लाइनों ब्रीडर बीज की वास्तविक लागत फसल।
    फाउंडेशन बीज के उत्पादन पर सब्सिडी रु 1000 / – प्रति क्विंटल या 50% जो भी कम हो (किस्मों / संकर) जो पिछले 10 वर्षों के दौरान जारी किए जाते हैं।
    प्रमाणित बीज के उत्पादन पर सब्सिडी रु 1000 / – प्रति क्विंटल या 50% जो भी कम हो (किस्मों / संकर) जो पिछले 10 वर्षों के दौरान जारी किए जाते हैं।
    प्रमाणित बीज का वितरण रु 2500 / – 4000 / -पर क्विंटल या 50% जो भी कम हो (किस्मों / संकर) जो पिछले 15 वर्षों के दौरान जारी किए जाते हैं।
    तिल रु 5000 / – प्रति क्विंटल या 50% जो भी कम हो (किस्मों / संकर) जो पिछले 15 वर्षों के दौरान जारी किए जाते हैं।
  • प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण
    ब्लॉक प्रदर्शन फसल और विविधता ब्लॉक
    एकीकृत कीट प्रबंधन (किसान फील्ड स्कूल) रु 26700 / – (दिशानिर्देश के अनुसार मानदंड)
    किसान प्रशिक्षण (2 किसानों के लिए 30 किसान) रु 24000 / -पर प्रशिक्षण (दिशानिर्देश के अनुसार मानदंड)
    विस्तार अधिकारी का प्रशिक्षण (2 दिनों के लिए 20 अधिकारी)  रु प्रति प्रशिक्षण 36000 / – (दिशानिर्देश के अनुसार मानदंड)
  • उत्पादन इकाई
    राइजोबियम / पीएसबी वितरण  300 / – या 50% जो भी दिशानिर्देशों के अनुसार कम है।
    पौध सरंक्षण रसायनों का वितरण जिसमें खरपतवार  रु 500 / – या 50% जो भी कम है।
    फार्म मशीनरी और सिंचाई उपकरण।
    पौध सरंक्षण उपकरण का वितरण।
    हस्त चलित पौध सरंक्षण उपकरण (स्प्रेयर) का वितरण रु 600 / – या 40% जो भी कम है और रु एससी / एसटी / लघु सीमांत / महिलाओं के लिए 800 / – या 50% जो भी कम है।

श्री विधि

श्रीविधि के विस्तार धान प्रदर्शन राशि रु.1400 प्रति एकड़ |

ग्रीष्मा कालीन धान

ग्रीष्म धान के बदले दलहन तिलहन मक्का फसल का विस्तार एवं प्रदर्शन राशि रु 5000 प्रति हेक्टेयर|

द्विफसली क्षेत्र के विस्तार

द्विफसली क्षेत्र विस्तार से फसल प्रदर्शन राशि रु 5000 प्रति हेक्टेयर|